रुचि के स्थान

योगिनी शक्ति पीठ:-

पथरगामा से 2 किमी की दूरी पर लखनपारी गांव के पास स्थित धर्म प्रभावीत  है। पौराणिक कथा के  अनुसार , सती के पवित्र शरीर को ले जाने वाले  शिव ने तांडव  निर्त्य शुरू की  थी और जहाँ  – जहाँ सती के अंग का हिस्सा गिर गया, ओ  शक्ति पीठ  कहलाया । इस क्रम में यहाँ  सती (उमा) की जांघ यहां गिरी थी । यहाँ पूर्ण भक्ति के साथ प्रतीकात्मक पत्थर की पूजा की जाती  है। मंगलवार और शनिवार को शुभ दिन माना जाता है जहाँ  हजारों भक्त दूर-दूर  से आते हैं। मंदिर में दिव्य उत्थान का एक आभा है जो दिमाग को शांति देता है और भक्तों में विश्वास व्यक्त करता है।

बसंतराई:-

यह स्थान पथरगामा  ब्लॉक के मुख्यालय से 12 किलोमीटर की दूरी पर है जो राजा बसंत राय द्वारा निर्माण  किया गया था। 50 एकड़ भूमि में एक बड़ा सा तालाब  है  । पौराणिक कथा के अनुसार, कोई भी तैराकी या हाथी या नाव में इस तालाब  को पार करने में सक्षम नहीं था । अगर कोई ऐसा करने का प्रयास करता था  तो समझ लेता था की ओ  खुद को जल रूपा  कब्र की ओर जा रहा  है। यह भी माना जाता है कि विवाह या किसी भी तरह के सामाजिक समारोहों के अवसर पर तालाब को  आमंत्रित किया जाता था और इस अवसर पर  बर्तन मांगने वाले लोग तालाब  से चमत्कारी  रूप से बर्तन प्राप्त करते थे | उद्देश्य पूर्ण होने पर इन बर्तनों  को  वापस करना पड़ता  था , जो नहीं करते थे  उन्हें आपदा या दुर्भाग्य का सामना करना पड़ता था । यह विश्वास अभी भी निर्भर है और इसे हिंदुओं के लिए पवित्र माना जाता है| 14 अप्रैल को चैता संक्रांति त्योहार से १५  दिनों के लिए  पर एक बड़ा मेला  इसके मेढ पर आयोजित किया जाता है |

सुंदर बांध:-

पथरगामा के उत्तर-पूर्व में राजभीठा गांव के पास सुंदर नदी पर निर्मित इस जिले में सुंदर बांध  सबसे बड़ी सिंचाई परियोजना है और यह पर्यटक के लिए एक सुंदर पिकनिक स्थान है। बांध 75 फीट गहरा है |  इसका  निर्माण 1 970-78 के बीच किया गया था।

मुलर्स टैंक:-

फ्रेडरिक मैक्स मुलर द्वारा निर्मित यह टैंक जिला मुख्यालय में स्थित है।